Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2018 · 1 min read

अनुरोध

कुछ शब्द पिरो कर लाया हूँ
कुछ गीत संजो कर लाया हूँ ।

तुम चाहो तो स्वीकार करो
तुम चाहो तो इनकार करो
तुम चाहो तो नाराज रहो
तुम चाहो तो प्रतिकार करो ,
कुछ साज सजा कर आया हूँ
कुछ राज बताने आया हूँ ।

ढलता जीवन बहता पानी
बहुतों की प्यास बुझाई है
इस जीवन की अरुबेला मे
बहुतों से रीत निभाई है ,
कुछ याद दिलाने आया हूँ
कुछ बात बताने आया हूँ ।

कम रहा समय डूबा सूरज
अरुणिम लाली अब रिक्त हुई
थक बैठा मरूमय जीवन अब
हरियाली अब सब तिक्त हुई ,
कुछ तुमसे कहने आया हूँ
कुछ तुम से सुनने आया हूँ ।

अंतिम पड़ाव है आने को
मैं खड़ा किनारे ताक रहा
यह लहर मिले किस सागर में
उस गहराई को नाप रहा ,
मैं सब खोने को आया हूँ
पूर्ण होने को आया हूँ ।

विपिन

Language: Hindi
1 Like · 527 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्त्रियां, स्त्रियों को डस लेती हैं
स्त्रियां, स्त्रियों को डस लेती हैं
पूर्वार्थ
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
*प्रणय प्रभात*
चप्पलें
चप्पलें
Kanchan Khanna
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
सलीका शब्दों में नहीं
सलीका शब्दों में नहीं
उमेश बैरवा
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हिन्दी दोहा -भेद
हिन्दी दोहा -भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
Re: !! तेरी ये आंखें !!
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
कवि रमेशराज
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
Paras Nath Jha
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
घर
घर
Dheerja Sharma
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आंधी
आंधी
Aman Sinha
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
Ritu Asooja
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
2499.पूर्णिका
2499.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
gurudeenverma198
*****नियति*****
*****नियति*****
Kavita Chouhan
पास फिर भी
पास फिर भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...