Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2016 · 1 min read

अनुभूति प्यारी सी …

अनुभूति प्यारी सी !
———————-

मीठी-सी प्यारी -सी
कितनी न्यारी-सी …
प्रेम-प्यार की अनुभूति
जगा देती तन-मन में
नई ऊर्जा नई स्फूर्ति
सब कुछ खिलखिलाता
बता न पाऊं वो सुवास
साँसे बन बसी मन में
अंतरतम का अहसास
प्रिय-प्रिय की हर बात
लगे अति प्यारी-प्यारी
झुकी पलकें या बंद आँखें
होती तेरी ही छवि न्यारी
स्मित-हास्य की फुहार प्रस्फुटित
प्रेम-निर्झर प्रवाहित प्रतिक्षण
कण-कण में सुवासित
मूर्त आनंद-सा क्षण क्षण …
*****
****अनिता जैन ‘विपुला’

Language: Hindi
631 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
*दुआओं का असर*
*दुआओं का असर*
Shashi kala vyas
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
मन तेरा भी
मन तेरा भी
Dr fauzia Naseem shad
गायब हुआ तिरंगा
गायब हुआ तिरंगा
आर एस आघात
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
पहाड़ी भाषा काव्य ( संग्रह )
पहाड़ी भाषा काव्य ( संग्रह )
श्याम सिंह बिष्ट
शादी
शादी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*पिताजी को मुंडी लिपि आती थी*
*पिताजी को मुंडी लिपि आती थी*
Ravi Prakash
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
कर्म और ज्ञान,
कर्म और ज्ञान,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
2838.*पूर्णिका*
2838.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
ruby kumari
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
हर राह सफर की।
हर राह सफर की।
Taj Mohammad
Rose Day 7 Feb 23
Rose Day 7 Feb 23
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पुनर्जन्म का सत्याधार
पुनर्जन्म का सत्याधार
Shyam Sundar Subramanian
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
Loading...