Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

अनुभव 💐🙏🙏

अनुभव अमूल्य जीवन का ?
🙏🙏🌹🌹🙏🙏💐💐
देख सुन समझ बूझ महशूस
से होता अनुभव जीवन का

पके फलों के रूपों को देखें
काली पीली हरी लाल नारंगी

विभिन्न रूपों में पक जाते हैं
देख सुन समझाते प्राणी को

सदाचार आचरण सद्कर्म भरा
अनुभव जीवन ज्ञान एक पिटारा

रस स्वाद मिठास कड़वी तीखी
जीव जगत विविध स्वादों में

फलों को खाते समस्त प्राणी
निचोड़ फेंक बीज निज काया

भू भूगोल पल बढ़ नव जीवन
नूतन स्वाद दे बिखर भू समाते

पलना बढ़ना विकसित होना
विचित्र बीज फ़िदरत अनमोल

देख समझ न पाता निज को
एक बड़ा सीख देता जग को

देख सुन समझ में पक जाते
नूतन मधुरअनुभव जीवन का

निचोड़ी काया माया निकली
आभा दिशा दशा बदलते ज़हां

की देख सुन समझदारी से
पके हुए को रखना संभाल

प्रेरणा सदाचार कर्म ही पूजा
देख सुन समझ कर समझौता

जीवन जीना जग में वेमिशाल
समझ पर ही टिकी भारत माता

कहती लाखों में एक मेरा सुंदर
लाल मेरे गर्व अभिमान आधार

मनोहर लाल देख देख सुन सुन
समझ ज़रा माथे की बिंदिया

चमक लाल ताप चमक दमक
असर्फी लाल श्रृंगारी तन मन

भावन लाल करिश्मा चमत्कारी
लाल अनुभव से हे होता जीवन

लाल माँ भारती कहती विश्व के
विविध क्षेत्रों में गर्व अभिमान
बढ़ाता **@** मेरा भारतलाल ।
🍀🍀🌷🌹🙏🙏🌷🌷

तारकेश्‍वर प्रशाद तरुण

Language: Hindi
156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
बारिश और उनकी यादें...
बारिश और उनकी यादें...
Falendra Sahu
पुरानी क़मीज़
पुरानी क़मीज़
Dr. Mahesh Kumawat
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Anil chobisa
मैं शामिल तुझमें ना सही
मैं शामिल तुझमें ना सही
Madhuyanka Raj
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
"तितली रानी"
Dr. Kishan tandon kranti
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
गर्व करो कि
गर्व करो कि
*Author प्रणय प्रभात*
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
Ravi Prakash
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
DrLakshman Jha Parimal
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अब गांव के घर भी बदल रहे है
अब गांव के घर भी बदल रहे है
पूर्वार्थ
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
शेखर सिंह
अपनी कलम से.....!
अपनी कलम से.....!
singh kunwar sarvendra vikram
बिछड़ा हो खुद से
बिछड़ा हो खुद से
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में
जीवन में
ओंकार मिश्र
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
कवि रमेशराज
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
Loading...