Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

अनमोल राजू

हुआ होगा ईश्वर का घर भी
किसी तरह से गमगीन,
इसलिए उन्होंने आपको
अपने पास बुलाया होगा।
उनके जहां में होगा नही
आपके जैसा हँसाने वाला कोई ,
इसलिए उन्होंने आपको
अपने पास बुलाया होगा।
आपसे हँसी का जोक सुनकर,
आज ईश्वर ने भी दिल खोलकर हँसा होगा।
अनामिका

12 Likes · 12 Comments · 107 Views
You may also like:
ईश्वर के रूप 'पिता'
Gouri tiwari
आदर्श पिता
विजय कुमार अग्रवाल
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
gurudeenverma198
नज़रिया
Shyam Sundar Subramanian
*अंग्रेजों के सिक्कों में झाँकता इतिहास*
Ravi Prakash
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
वरदान दो माँ
Saraswati Bajpai
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अंदर से टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
पिता
Rajiv Vishal
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सरहद पर रहने वाले जवान के पत्नी का पत्र
Anamika Singh
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम किसके लिए हो?
Shekhar Chandra Mitra
लाइलाज़
Seema 'Tu hai na'
✍️कुछ यादों के पन्ने✍️
'अशांत' शेखर
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
जिंदगी तुमसे जीना सीखा
Abhishek Pandey Abhi
गुरुर
Annu Gurjar
साथ तुम्हारा
मोहन
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फूल की ललक
विजय कुमार 'विजय'
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
"छत्रपति शिवाजी महाराज की गौभक्ति"
Pravesh Shinde
सावन की बौछार
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
Dr Archana Gupta
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
Loading...