Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

अनजान बनकर मिले थे,

अनजान बनकर मिले थे,
फिर हमारी जान बन गए..
भगवान मुझसे कुछ बड़ा करवाना चाहता हैं,
इसलिए हम फिर से अनजान बन गए..
Jay prakash

1 Like · 469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2290.पूर्णिका
2290.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
मन में उतर कर मन से उतर गए
मन में उतर कर मन से उतर गए
ruby kumari
NeelPadam
NeelPadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
Er. Sanjay Shrivastava
"गूंगों की बस्ती में, बहरों की आबादी।
*Author प्रणय प्रभात*
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
Dr fauzia Naseem shad
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"तुम ही"
Dr. Kishan tandon kranti
अब जमाना आ गया( गीतिका )
अब जमाना आ गया( गीतिका )
Ravi Prakash
जय जगन्नाथ भगवान
जय जगन्नाथ भगवान
Neeraj Agarwal
ज़िंदा हो ,ज़िंदगी का कुछ तो सबूत दो।
ज़िंदा हो ,ज़िंदगी का कुछ तो सबूत दो।
Khem Kiran Saini
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वीरगति
वीरगति
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
जे सतावेला अपना माई-बाप के
जे सतावेला अपना माई-बाप के
Shekhar Chandra Mitra
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...