Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

अधूरा सफ़र

कल तक मैं बुरा नहीं था
जाने आज कैसे बुरा हो गया
देखा था मिलकर जो उसके साथ
वो ख़्वाब भी अधूरा हो गया

सुना है अब वो बदल गया है
क्यों वो फूल भी अब छुरा हो गया है
जाने कैसे संग जीवन बिताने का
ख़्वाब भी उसके लिए बुरा हो गया है

उसके बिन है मुश्किल जीना मेरा
फिर भी वो मुझे अकेला छोड़ गया
जिसमें रखा था मैंने प्यार से उसे
वो उस दिल को ही तोड़ गया

हम फिर भी उसकी ख़ुशी में खुश है
वो जो हमको तन्हा छोड़ गया
और जाकर मेरे जीवन से दूर बहुत
मेरे जीवन का रुख़ मोड़ गया

है नहीं कोई आस आने की उसके
ये दिल भी अब ये बात मान गया
इश्क़ के दरिया में कूदने का
क्या हो सकता है अंजाम,जान गया

मिला था जितना सुकून इश्क़ में
मेरे लिए तो वही काफ़ी हो गया
याद करके उन हसीन लम्हों को
मेरा तो पूरा जीवन ही कट गया

दर्द में भी सुकून मिलता है इश्क़ में
इस बात का मुझे अहसास हो गया
मरहम की ज़रूरत नहीं पड़ती तुम्हें
यादों का पिटारा ही बाम हो गया।

6 Likes · 2 Comments · 1811 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यदि आपका स्वास्थ्य
यदि आपका स्वास्थ्य
Paras Nath Jha
"मानो या ना मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
जिसप्रकार
जिसप्रकार
Dr.Rashmi Mishra
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
न हो आश्रित कभी नर पर, इसी में श्रेय नारी का।
न हो आश्रित कभी नर पर, इसी में श्रेय नारी का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
■ नेक सलाह। स्वधर्मियों के लिए। बाक़ी अपने मालिक को याद करें।
■ नेक सलाह। स्वधर्मियों के लिए। बाक़ी अपने मालिक को याद करें।
*Author प्रणय प्रभात*
जाने  कौन  कहाँ  गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
जाने कौन कहाँ गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कोई फाक़ो से मर गया होगा
कोई फाक़ो से मर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यह कौनसा आया अब नया दौर है
यह कौनसा आया अब नया दौर है
gurudeenverma198
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
2722.*पूर्णिका*
2722.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
गीत
गीत
दुष्यन्त 'बाबा'
💐प्रेम कौतुक-363💐
💐प्रेम कौतुक-363💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"श्रृंगार रस के दोहे"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
Loading...