Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

अद्भुत संगम

अद्भुत संगम
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
है दुखों का अगम पयोधि
हृदय गर्त अश्कों से भरा है ।
किस दुविधा में फँसा अकिंचन
दुनिया ये कितना गहरा है ।।

जब से देव रूप की आभा
मानस पटल पे आई है ।
तब से भाव से भीग हृदय
निज नैनों में आ उतरा है ।।

दुनिया में कितना गम है उसमे
मेरा गम कितना अदना है ।
हे ईश्वर मैं हर लो मेरी
मैं ने ही मुझको पकड़ा है ।।

हृदय द्रवित हो करुण हुआ
पग पग पर न्याय निहोरा है ।
न्याय का अब संचार करो
न्याय बिना सब बहरा है ।।

स्व में सर्व का अद्भुत संगम
क्या है ये अब मेल विहंगम ।
है हे गुरुवर सर्व समर्पण
न्याय बिना जग सहरा है ।।


सामरिक अरुण
NDS झारखण्ड
07/05/2016
www.nyayadharmsabha.org

Language: Hindi
513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
💐प्रेम कौतुक-348💐
💐प्रेम कौतुक-348💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* चाहतों में *
* चाहतों में *
surenderpal vaidya
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
मौत की आड़ में
मौत की आड़ में
Dr fauzia Naseem shad
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/132.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कौन नहीं है...?
कौन नहीं है...?
Srishty Bansal
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
Ravi Prakash
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
विपक्ष से सवाल
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...