Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

अद्भुत संगम

अद्भुत संगम
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
है दुखों का अगम पयोधि
हृदय गर्त अश्कों से भरा है ।
किस दुविधा में फँसा अकिंचन
दुनिया ये कितना गहरा है ।।

जब से देव रूप की आभा
मानस पटल पे आई है ।
तब से भाव से भीग हृदय
निज नैनों में आ उतरा है ।।

दुनिया में कितना गम है उसमे
मेरा गम कितना अदना है ।
हे ईश्वर मैं हर लो मेरी
मैं ने ही मुझको पकड़ा है ।।

हृदय द्रवित हो करुण हुआ
पग पग पर न्याय निहोरा है ।
न्याय का अब संचार करो
न्याय बिना सब बहरा है ।।

स्व में सर्व का अद्भुत संगम
क्या है ये अब मेल विहंगम ।
है हे गुरुवर सर्व समर्पण
न्याय बिना जग सहरा है ।।


सामरिक अरुण
NDS झारखण्ड
07/05/2016
www.nyayadharmsabha.org

Language: Hindi
Tag: कविता
339 Views
You may also like:
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
दिवाली शुभ होवे
Vindhya Prakash Mishra
ऐसे क्यों मुझे तड़पाते हो
Ram Krishan Rastogi
✍️स्त्रोत✍️
'अशांत' शेखर
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जियो उनके लिए/JEEYO unke liye
Shivraj Anand
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
फ़साने तेरे-मेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
दीपावली पर ऐसा भी होता है
gurudeenverma198
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
जिंदा है।
Taj Mohammad
■■★परमात्मनः शक्ति:★■■
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ की वंदना
Buddha Prakash
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन के गाँव
Anamika Singh
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
*"पिता"*
Shashi kala vyas
मिली सफलता
श्री रमण 'श्रीपद्'
बीती यादें
Kaur Surinder
दीपोत्सव की शुभकामनाएं
Saraswati Bajpai
पुराना है
AJAY PRASAD
Loading...