Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 1 min read

*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*

*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
वतर्ज-दिलवर की रुशवाई-
स्थाई- शूल को फूल फूल को शूल बनाने वाले हैं।
उजड़े गुलशन को मेरे भोले उगाने वाले हैं।।
अं•-यही संस्कार भोले भंडारी निश दिन हमको सिखाते हैं।
गलें विशधर वो ड़ाले त्रिपुरारी दूध हम सब यूं चड़ाते हैं।।
उड़ान -भोले बाबा जी ने उन्ह नागों को पालें हैं।।
उजड़े गुलशन—–
अं•-हे देवाधिदेव महादेव तुम्हीं, जिंदा मुर्दे भस्मी लगाले हैं।
देते सुख-संपत्ति सभी को तुम्ह, सभी लोकों को संभाले हैं।।
उड़ान -तेरी महिमा है न्यारी जग से,राम राम जपने वाले हैं।।

जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झांसी उ•प्र•

185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
Shweta Soni
"गॉंव का समाजशास्त्र"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
धमकियां शुरू हो गई
धमकियां शुरू हो गई
Basant Bhagawan Roy
मुहब्बत हुयी थी
मुहब्बत हुयी थी
shabina. Naaz
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
प्रकाश एवं तिमिर
प्रकाश एवं तिमिर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कांतिपति का चुनाव-रथ
कांतिपति का चुनाव-रथ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
कवि दीपक बवेजा
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
Ajay Kumar Vimal
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
बड्ड यत्न सँ हम
बड्ड यत्न सँ हम
DrLakshman Jha Parimal
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
आदत न डाल
आदत न डाल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...