Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

अजीब शख्स था…

अजीब शख्स था…
दिल से निकला ही नहीं कभी
ना कभी पास ही रहा,
ना दूर ही जा पाया कभी
खबर थी शायद उसे
कोई ख्वाहिश नहीं
मेरी उसके सिवा,
इसी लिए,
वो इस क़दर मगरूर रहा !

हिमांशु Kulshreshtha

2 Likes · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
Sunil Suman
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
*वंदन शासक रामपुर, कल्बे अली उदार (कुंडलिया)*
*वंदन शासक रामपुर, कल्बे अली उदार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
3199.*पूर्णिका*
3199.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच और सोच
सच और सोच
Neeraj Agarwal
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
Diwakar Mahto
■ यक़ीन मानिएगा...
■ यक़ीन मानिएगा...
*Author प्रणय प्रभात*
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
Ranjeet kumar patre
उज्ज्वल भविष्य हैं
उज्ज्वल भविष्य हैं
TARAN VERMA
ह्रदय के आंगन में
ह्रदय के आंगन में
Dr.Pratibha Prakash
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
Yogendra Chaturwedi
Bieng a father,
Bieng a father,
Satish Srijan
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
shabina. Naaz
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
गलत चुनाव से
गलत चुनाव से
Dr Manju Saini
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
Anil chobisa
"बदलते रसरंग"
Dr. Kishan tandon kranti
You come in my life
You come in my life
Sakshi Tripathi
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
सत्य कुमार प्रेमी
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
Loading...