Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2017 · 1 min read

** अजब मुस्कुराहट **

इस अजब मुस्कुराहट पे तो ये दिल वारा है
कौन जाने अब फिर भी ये दिल कुं -वारा है
नाज़ – नख़रे भी तुम्हारे कितने अजब हैं
शायद ये दिल अज़ब- गज़ब तुम पे वारा है ।।

. ?मधुप बैरागी

Language: Hindi
210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
" जिन्दगी क्या है "
Pushpraj Anant
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Sahityapedia
पढ़ता  भारतवर्ष  है, गीता,  वेद,  पुराण
पढ़ता भारतवर्ष है, गीता, वेद, पुराण
Anil Mishra Prahari
* साधा जिसने जाति को, उसका बेड़ा पार【कुंडलिया】*
* साधा जिसने जाति को, उसका बेड़ा पार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
Pramila sultan
"प्यार की नज़र से"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्रिकेट का पिच,
क्रिकेट का पिच,
Punam Pande
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
किसके हाथों में थामो गे जिंदगी अपनी
किसके हाथों में थामो गे जिंदगी अपनी
कवि दीपक बवेजा
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
आदि -बन्धु
आदि -बन्धु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-157💐
💐प्रेम कौतुक-157💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
और प्रतीक्षा सही न जाये
और प्रतीक्षा सही न जाये
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
2870.*पूर्णिका*
2870.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आंबेडकर न होते तो...
आंबेडकर न होते तो...
Shekhar Chandra Mitra
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
मरहटा छंद
मरहटा छंद
Subhash Singhai
Loading...