Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2024 · 1 min read

न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-

अच्छा ख़ासा तआरुफ़ है, उनका मेरा,
जाने क्यों मेरा हाल, रिंदों से पूछा करते हैं।

वो ख़ुद ही उठकर गये थे मिरी महफ़िल से,
जाने क्यों तन्हाई में मेरी ग़ज़ल गाया करते हैं।

इत्र सा महक जाता है सुनसान मिरी सांसों में,
जब कभी वो हमारे कूचे से गुजरा करते हैं।

शायद न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा रहे होंगे,
कुछ वो बेबस, कुछ हम बेबस हुआ करते हैं।

जब भी गौर से निहारा है, आईने में ख़ुद को,
अक़्स कहता है, दिल वाले ख़ूबसूरत ही हुआ करते हैं।

26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shreedhar
View all
You may also like:
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
Rituraj shivem verma
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
Manoj Mahato
"औरत ही रहने दो"
Dr. Kishan tandon kranti
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
* मिल बढ़ो आगे *
* मिल बढ़ो आगे *
surenderpal vaidya
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2650.पूर्णिका
2650.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
6
6
Davina Amar Thakral
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
*Author प्रणय प्रभात*
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
ख़ुद को ख़ोकर
ख़ुद को ख़ोकर
Dr fauzia Naseem shad
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
AJAY AMITABH SUMAN
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
भाव गणित
भाव गणित
Shyam Sundar Subramanian
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन भर मर मर जोड़ा
जीवन भर मर मर जोड़ा
Dheerja Sharma
*राजा रानी हुए कहानी (बाल कविता)*
*राजा रानी हुए कहानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...