Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 3 min read

अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]

एक औरत अपने परिवार के सदस्यों के लिए रोज़ाना भोजन पकाती थी और एक रोटी वह वहाँ से गुजरने वाले किसी भी भूखे के लिए पकाती थी । वह उस रोटी को खिड़की के सहारे रख दिया करती थी, जिसे कोई भी ले सकता था ।

एक कुबड़ा व्यक्ति रोज़ उस रोटी को ले जाता और बजाय धन्यवाद देने के अपने रास्ते पर चलता हुआ वह कुछ इस तरह बड़बड़ाता-
” जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा । ”

दिन गुजरते गए और ये सिलसिला चलता रहा। वो कुबड़ा रोज रोटी लेके जाता रहा और इन्ही शब्दों को बड़बड़ाता-
” जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा । ”

वह औरत उसकी इस हरकत से तंग आ गयी और मन ही मन खुद से कहने लगी कि
” कितना अजीब व्यक्ति है, एक शब्द धन्यवाद का तो देता नहीं है, और न जाने क्या-क्या बड़बड़ाता रहता है, मतलब क्या है इसका । ”

एक दिन क्रोधित होकर उसने एक निर्णय लिया और बोली- ” मैं इस कुबड़े से निजात पाकर रहूंगी । ”

और उसने क्या किया कि उसने उस रोटी में ज़हर मिला दिया जो वो रोज़ उसके लिए बनाती थी, और जैसे ही उसने रोटी को खिड़की पर रखने की कोशिश की, कि अचानक उसके हाथ कांपने लगे और रुक गये और वह
” हे भगवन, मैं ये क्या करने जा रही थी ? ”

और उसने तुरंत उस रोटी को चूल्हे की आँच में जला दिया । एक ताज़ा रोटी बनायीं और खिड़की के सहारे रख दीं ।

हर रोज़ की तरह वह कुबड़ा आया और रोटी लेके ” जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा, और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा ” बड़बड़ाता हुआ चला गया । इस बात से बिलकुल बेख़बर की उस महिला के दिमाग में क्या चल रहा है…

हर रोज़ जब वह महिला खिड़की पर रोटी रखती थी तो वह भगवान से अपने पुत्र की सलामती और अच्छी सेहत और घर वापसी के लिए प्रार्थना करती थी, जो कि अपने सुन्दर भविष्य के निर्माण के लिए कहीं बाहर गया हुआ था। महीनों से उसकी कोई ख़बर नहीं थी ।

ठीक उसी शाम को उसके दरवाज़े पर एक दस्तक होती है.. वह दरवाजा खोलती है और भोंचक्की रह जाती है.. अपने बेटे को अपने सामने खड़ा देखती है । वह पतला और दुबला हो गया था । उसके कपड़े फटे हुए थे और वह भूखा भी था, भूख से वह कमज़ोर हो गया था ।

जैसे ही उसने अपनी माँ को देखा, उसने कहा- “माँ, यह एक चमत्कार है कि मैं यहाँ हूँ…
आज जब मैं घर से एक मील दूर था, मैं इतना भूखा था कि मैं गिर गया… मैं मर गया होता..!!

लेकिन तभी एक कुबड़ा वहां से गुज़र रहा था । उसकी नज़र मुझ पर पड़ी और उसने मुझे अपनी गोद में उठा लिया । भूख के मारे मेरे प्राण निकल रहे थे, मैंने उससे खाने को कुछ माँगा । उसने नि:संकोच अपनी रोटी मुझे यह कह कर दे दी कि-
” मैं हर रोज़ यही खाता हूँ, लेकिन आज मुझसे ज़्यादा जरुरत इसकी तुम्हें है.. सो ये लो और अपनी भूख को तृप्त करो । ”

जैसे ही माँ ने उसकी बात सुनी, माँ का चेहरा पीला पड़ गया और अपने आप को सँभालने के लिए उसने दरवाज़े का सहारा लीया । उसके मस्तिष्क में वह बात घुमने लगी कि कैसे उसने सुबह रोटी में जहर मिलाया था, अगर उसने वह रोटी आग में जला के नष्ट नहीं की होती तो उसका बेटा उस रोटी को खा लेता और अंजाम होता उसकी मौत..?

और इसके बाद उसे उन शब्दों का मतलब बिलकुल स्पष्ट हो चूका था-
जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा ।

शिक्षा:-

हमेशा अच्छा करो और अच्छा करने से अपने आप को कभी मत रोको, फिर चाहे उसके लिए उस समय आपकी सराहना या प्रशंसा हो या ना हो..!!

प्रभु कहते है की तुम कर्म किये बिना फल की कल्पना नहीं की जा सकती ।।
और कर्म अगर तुम अच्छा करोगे तो कर्म का फल जरूर अच्छा ही मिलेगा ।।

।। कर्म का फल मीठा ही होता है ।।

।। अमीन ।।

204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
Kshma Urmila
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Nishant prakhar
मिलन
मिलन
Gurdeep Saggu
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
मैं  गुल  बना  गुलशन  बना  गुलफाम   बना
मैं गुल बना गुलशन बना गुलफाम बना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हिन्दू एकता
हिन्दू एकता
विजय कुमार अग्रवाल
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
उनको ही लाजवाब लिक्खा है
उनको ही लाजवाब लिक्खा है
अरशद रसूल बदायूंनी
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
2478.पूर्णिका
2478.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"चिन्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
अनर्गल गीत नहीं गाती हूं!
अनर्गल गीत नहीं गाती हूं!
Mukta Rashmi
Today's Reality: Is it true?
Today's Reality: Is it true?
पूर्वार्थ
भारत के वायु वीर
भारत के वायु वीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम जब निर्मल होता है,
प्रेम जब निर्मल होता है,
हिमांशु Kulshrestha
Loading...