Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2018 · 1 min read

अच्छाईयाँ रख जा

अच्छाईयाँ रख जा
****************
वक्त बेवक्त ही सही यहाँ अच्छाईया रख जा
वफा के राह चलना सीख तू सच्चाईयां रख जा
*******
चलना राह अच्छे का भला होगा यहीं तेरा
भले के राह चलते जा यहाँ रूसवाईयाँ रख जा
******
चलना सत्य के पथ पर भला होगा यहीं तेरा
भले के राह चलते ही यहाँ रूसवाईयाँ रख जा
*******
जमाने की फिक्र न कर जमाना है बुरा लेकिन-
सम्भलकर राह चलते जा बेपरवाहियाँ रख जा
******
सताना काम जालिम का जमाने में सुना मैनें
खूदी को कर बुलंद इतना खुमारीयाँ रख जा
*********
✍?✍?पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

531 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
आईना
आईना
Pushpa Tiwari
प्राकृतिक सौंदर्य
प्राकृतिक सौंदर्य
Neeraj Agarwal
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
गुमनाम
गुमनाम
Santosh Shrivastava
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
ईष्र्या
ईष्र्या
Sûrëkhâ
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU SHARMA
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
Keshav kishor Kumar
"मित्रता और मैत्री"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत सियासत की
फितरत सियासत की
लक्ष्मी सिंह
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
शेखर सिंह
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
*प्रणय प्रभात*
ओ पथिक तू कहां चला ?
ओ पथिक तू कहां चला ?
Taj Mohammad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
याद दिल में जब जब तेरी आईं
याद दिल में जब जब तेरी आईं
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
Dr MusafiR BaithA
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
काला धन काला करे,
काला धन काला करे,
sushil sarna
हालात ए वक्त से
हालात ए वक्त से
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी क्या है
हिंदी क्या है
Ravi Shukla
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दुआएँ मिल जाये यही काफी है,
दुआएँ मिल जाये यही काफी है,
पूर्वार्थ
Loading...