Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

अग्निवीर

देशभक्ति का प्रमाण इन्हें, ऐसा अनचाहा परिवार न दो।
अग्निवीर के नाम लुभावने, निहित वर्ष यह चार न दो।।
दिल्ली बैठी खिल्ली उड़ाने, हर जवान के चाहत पर।
राहत खातिर मृगमरीचिका, वाले यह रोजगार न दो।।
कहते हो गर इसे मुनासिब, तो यह भी एक काम करो।
हर नेता हर अभिनेता के, पूत भी इनके नाम करो।।
या फिर रोक दो इनकी भत्ता, निस्वार्थ सेवा ही हो जाये।
अग्निवीर के शुभचिंतक यह, कर्मवीर भी कहलाये।।
©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित १७/०६/२०२२)

2 Likes · 112 Views
You may also like:
The flowing clouds
Buddha Prakash
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
✍️अजनबी की तरह...!✍️
'अशांत' शेखर
✍️सोच पे किसकी पकड़ है..?✍️
'अशांत' शेखर
पिता की याद
Meenakshi Nagar
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
“माँ भारती” के सच्चे सपूत
DESH RAJ
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
इश्क
goutam shaw
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
वफ़ा
Seema 'Tu haina'
यही आदत ही तो
gurudeenverma198
उपदेश
साहित्य गौरव
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
बचपन भी कहीं खो गया है।
Taj Mohammad
संघर्ष
Arjun Chauhan
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपनी पलकों को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...