Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2022 · 1 min read

अग्निवीर

देशभक्ति का प्रमाण इन्हें, ऐसा अनचाहा परिवार न दो।
अग्निवीर के नाम लुभावने, निहित वर्ष यह चार न दो।।
दिल्ली बैठी खिल्ली उड़ाने, हर जवान के चाहत पर।
राहत खातिर मृगमरीचिका, वाले यह रोजगार न दो।।
कहते हो गर इसे मुनासिब, तो यह भी एक काम करो।
हर नेता हर अभिनेता के, पूत भी इनके नाम करो।।
या फिर रोक दो इनकी भत्ता, निस्वार्थ सेवा ही हो जाये।
अग्निवीर के शुभचिंतक यह, कर्मवीर भी कहलाये।।
©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित १७/०६/२०२२)

Language: Hindi
3 Likes · 400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
View all
You may also like:
गीत
गीत
Shiva Awasthi
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
2310.पूर्णिका
2310.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
अनिल कुमार
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
#लघुकथा / आख़िरकार...
#लघुकथा / आख़िरकार...
*Author प्रणय प्रभात*
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
gurudeenverma198
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
15- दोहे
15- दोहे
Ajay Kumar Vimal
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शेर
शेर
Monika Verma
💐Prodigy Love-36💐
💐Prodigy Love-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
*भले कितनी हो लंबी रात,दिन फिर भी निकलता है 【मुक्तक】*
*भले कितनी हो लंबी रात,दिन फिर भी निकलता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बच्चों के पिता
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
खुद को भी
खुद को भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...