Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

// अगर //

// अगर //
भुला दूँ मैं तुझे जानम, बता कैसे
मुझे तुम याद आओगे, अगर यूँ ही
जहां इल्ज़ाम देगा फिर बता किसको
वफ़ा बदनाम हो जाए, अगर यूँ ही
मुझे तू मार भी डाले तो फ़ायदा क्या
तुझे हासिल न कुछ भी हो अगर यूँ ही
महावीर उत्तरांचली

1 Like · 295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
■ आज का संदेश...
■ आज का संदेश...
*प्रणय प्रभात*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
आहट बता गयी
आहट बता गयी
भरत कुमार सोलंकी
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
3020.*पूर्णिका*
3020.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
एक ख़्वाहिश
एक ख़्वाहिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सदद्विचार
सदद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
बादल
बादल
Shankar suman
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
parvez khan
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
Neeraj Agarwal
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
Neelofar Khan
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
अगर कोई लक्ष्य पाना चाहते हो तो
अगर कोई लक्ष्य पाना चाहते हो तो
Sonam Puneet Dubey
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
अपना चेहरा
अपना चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
*मकर संक्रांति पर्व
*मकर संक्रांति पर्व"*
Shashi kala vyas
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Loading...