Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2023 · 1 min read

अगर जाना था उसको

अगर जाना था उसको
पास मेरे आया क्यों था

कुछ दिन के लिए उसने
अपना बनाया क्यों था

✍️कवि दीपक सरल

1 Like · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
Vishal babu (vishu)
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वो अनुराग अनमोल एहसास
वो अनुराग अनमोल एहसास
Seema gupta,Alwar
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
जय माता दी -
जय माता दी -
Raju Gajbhiye
ब्यूटी विद ब्रेन
ब्यूटी विद ब्रेन
Shekhar Chandra Mitra
#हास_परिहास
#हास_परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
सीख लिया है सभी ने अब
सीख लिया है सभी ने अब
gurudeenverma198
चीर हरण ही सोचते,
चीर हरण ही सोचते,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* वक्त की समुद्र *
* वक्त की समुद्र *
Nishant prakhar
विचार~
विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"दिल कहता है"
Dr. Kishan tandon kranti
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...