Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है

अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
तो वो जरूर कहानी का हिस्सा है
वर्ना आती जाती हवाओँ का क्या..
ना अब तक उसका कोई किस्सा है

✍️®©’अशांत’ शेखर
25/02/2023

1 Like · 2 Comments · 186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"पुतला"
Dr. Kishan tandon kranti
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Sanjay ' शून्य'
पाँव पर जो पाँव रख...
पाँव पर जो पाँव रख...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
Sukoon
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गंगा से है प्रेमभाव गर
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD CHAUHAN
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
😢शर्मनाक😢
😢शर्मनाक😢
*Author प्रणय प्रभात*
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
gurudeenverma198
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
बुला लो
बुला लो
Dr.Pratibha Prakash
नैन
नैन
TARAN VERMA
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Bodhisatva kastooriya
दिल में हमारे
दिल में हमारे
Dr fauzia Naseem shad
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
Below the earth
Below the earth
Shweta Soni
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
Loading...