Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 1 min read

अखबार रोता है…

वतन के काम ना आये वो तन बेकार होता है,
जो धन भूखे को रोटी ना दे खरपतवार होता है।
जवां बेटा मरा है जबभी भारत माँ की रक्षा में
शहादत की खबर आये तो हर अखबार रोता है ।।

संदीप यादव(Zo Zo)
आजमगढ

Language: Hindi
300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ड्रीम इलेवन
ड्रीम इलेवन
आकाश महेशपुरी
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
झील के ठहरे पानी में,
झील के ठहरे पानी में,
Satish Srijan
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गर्व की बात
गर्व की बात
Er. Sanjay Shrivastava
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
#यादों_का_झरोखा-
#यादों_का_झरोखा-
*Author प्रणय प्रभात*
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
शेखर सिंह
"कलम के लड़ाई"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
Loading...