Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2021 · 1 min read

अखबार में क्या आएगा

क्या बना है खाने में
क्या परोसा जाएगा !
वहां घटना क्या हुई थी
अखबार में क्या आएगा !!

क्या सुना है तुमने,
दादा उसके नेता थे !
यह पुश्तैनी कारोबार है
ऐसे ही चलाया जाएगा !!

अकाल पड़ा है गांव में,
रोटी से व्याकुल किसान !
किसी गरीब का मुद्दा है
ऐसे ही उछाला जाएगा !!

किसानों, गरीबों, बच्चों
महिलाओं, बुजुर्गों खातिर !
सरकारी योजनाएं है ,
लाभ कौन पाएगा !!

महंगाई बढ़ने लगी
जनसंख्या है जिम्मेदार !
तंबाकू,शराब,पेट्रोल
ही देश को चलाएगा !!

घोटाला हुआ है क्या
यह छानबीन जारी है !
भर गए कोश फिर
कारोबारी जारी है !!

कोई जुर्म हुआ है क्या,
पिछली रात अंधेरे में !
सूरज निकलते ही क्या,
सुराग सब मिट जाएगा !!

क्या बना है खाने में,
क्या परोसा जाएगा !!
वहां घटना क्या हुई थी
अखबार में क्या आएगा !!

Language: Hindi
2 Likes · 5 Comments · 580 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
मैंने नींदों से
मैंने नींदों से
Dr fauzia Naseem shad
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
*अध्याय 3*
*अध्याय 3*
Ravi Prakash
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रदाता
प्रदाता
Dinesh Kumar Gangwar
मैं सफ़र मे हूं
मैं सफ़र मे हूं
Shashank Mishra
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
Shashi kala vyas
लत / MUSAFIR BAITHA
लत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#आज_की_विनती
#आज_की_विनती
*प्रणय प्रभात*
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Srishty Bansal
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
" रिवायत "
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
कभी कभी कुछ प्रश्न भी, करते रहे कमाल।
कभी कभी कुछ प्रश्न भी, करते रहे कमाल।
Suryakant Dwivedi
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
Loading...