Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है

अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
मेरी जिंदगी का उगता हुआ सूरज हो तुम
आदि से अनंत तक
बस एक भ्रम है जिसमें स्त्री को रखा जाता है।

2 Likes · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
जहां में
जहां में
SHAMA PARVEEN
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
!! चमन का सिपाही !!
!! चमन का सिपाही !!
Chunnu Lal Gupta
-  मिलकर उससे
- मिलकर उससे
Seema gupta,Alwar
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
Vijay kumar Pandey
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
नशीली आंखें
नशीली आंखें
Shekhar Chandra Mitra
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
2453.पूर्णिका
2453.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इंसानियत
इंसानियत
Sunil Maheshwari
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
मेरी एक सहेली है
मेरी एक सहेली है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राम राज्य
राम राज्य
Shashi Mahajan
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
Shweta Soni
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
VINOD CHAUHAN
क्या लिखूं ?
क्या लिखूं ?
Rachana
"प्रपोज डे"
Dr. Kishan tandon kranti
हर क्षण  आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
हर क्षण आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
Ramnath Sahu
दो शब्द
दो शब्द
Dr fauzia Naseem shad
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
ख़ता हुई थी
ख़ता हुई थी
हिमांशु Kulshrestha
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
Loading...