Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2016 · 1 min read

अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,

अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।
अनसुने हो गए जब दिल-ए-अरमान सभी,
खामोशियाँ उतार देते हैं कागजो पर,
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।

जागती आँखों से जिन्हें देखने की भूल की,
अधूरे वो ख्वाब,उतार देते हैं कागजों पर।
सोचा था की,मिलेंगे तब केह देंगे,
वो हर बात,उतार देते हैं कागजों पर।
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।

धुँधली हो गई मगर है जिन्दा ज़ेहन में ,
वो तेरी यादें,उतार देते हैं कागजो पर।
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।
कुछ नज़्मे उतार देते हैं कागजों पर।

कपिल जैन

2 Comments · 639 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जौदत
जौदत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता
Mukesh Kumar Sonkar
मैं पिता हूं।
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
राम
राम
umesh mehra
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
एहसासों से हो जिंदा
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
जाना ही होगा 🙏🙏
जाना ही होगा 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
खास हो तुम
खास हो तुम
Satish Srijan
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
हे काश !!
हे काश !!
Akash Yadav
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आज का बालीवुड
आज का बालीवुड
Shekhar Chandra Mitra
पल भर में बदल जाए
पल भर में बदल जाए
Dr fauzia Naseem shad
😊 आज की बात :-
😊 आज की बात :-
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
3015.*पूर्णिका*
3015.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🌺ये गर्ल!स्टोरी में ट्विस्ट दे रही🌺
🌺ये गर्ल!स्टोरी में ट्विस्ट दे रही🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति में संगीत
प्रकृति में संगीत
Ravi Prakash
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
ruby kumari
Loading...