Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

” अंधेरी रातें “

” अंधेरी रातें ”
रास्ते कहांँ दिखते हैं, अंंधेरी रातों में ।
जुगनू को भी लाइट जलाना पड़ता है ,
मंजिल तक जाने में।
……✍️ योगेन्द्र चतुर्वेदी

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हमको तंहाई का
हमको तंहाई का
Dr fauzia Naseem shad
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
Sapna Arora
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
Harminder Kaur
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
हमारी वफा
हमारी वफा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
Ramswaroop Dinkar
#त्वरित_टिप्पणी
#त्वरित_टिप्पणी
*Author प्रणय प्रभात*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"चिता"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
तू सीमा बेवफा है
तू सीमा बेवफा है
gurudeenverma198
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
3100.*पूर्णिका*
3100.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
Anil chobisa
Loading...