Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 3 min read

// अंधविश्वास //

// अंधविश्वास //

बात उन दिनों की है जब मैं पांचवी कक्षा में पढ़ता था। हमारे परिवार में सिर्फ चार प्राणी रहते थे। मम्मी-पापा, मैं और दादी माँ। मम्मी-पापा मुझसे बहुत प्यार करते थे और मैं भी उन्हें बहुत प्यार करता था, पर दादी माँ को मैं सबसे ज्यादा प्यार करता था और वे भी मुझे उतना ही चाहती थी। स्कूल समय के अलावा मेरा अधिकांश समय उन्हीं के साथ बीतता था।
वे ही मुझे खिलातीं, नहलातीं, होमवर्क करातीं और स्कूल के लिए तैयार करती थीं। घर से स्कूल की दूरी महज आधा किलोमीटर होने के बावजूद दादी माँ उंगली पकड़कर मुझे रोज स्कूल छोड़ने और लेने जाती थीं। रात को भी मैं उन्हीं के साथ सोता और रोज नई-नई कहानियाँ सुना करता।
दादी माँ को ज्योतिषियों पर बहुत विश्वास था और उनकी बातों को वे ब्रह्म वाक्य की तरह मानती थीं। एक बार एक ज्योतिष दोपहर के समय हमारे घर आए। दादी माँ ने उनका आदरपूर्वक स्वागत-सत्कार किया और मुझे गोद में लेकर उन्हें अपना हाथ दिखाते हुए पूछा- ‘‘महाराज कुछ भविष्य की बातें बताने का कष्ट करें।’’
ज्योतिष बहुत देर तक दादी माँ का हाथ पढ़ता रहा पर बोला कुछ नहीं। शायद कुछ सोच रहा था।
दादी माँ ने उसकी गंभीरता का कारण पूछा तो उसने बताया- ‘‘माताजी, बात ही कुछ ऐसी है। आज तक मेरी ज्योतिष विद्या कभी असत्य प्रमाणित नहीं हुई है, इसलिए सत्य बताने से डरता हूँ।’’
दादी माँ किसी आशंका से एकदम डर गईं। हाथ जोड़कर बोली- ‘‘महाराज ! जल्दी बताइए, मेरा दिल बैठा जा रहा है।’’
‘‘आपके हाथ की रेखाएँ बता रही हैं कि तीन दिन के भीतर आपको पुत्र शोक होगा। एक दुर्घटना में आपका बेटा आपसे हमेशा के लिए बिछड़ जाएगा।’’ ज्योतिष की बात सुनकर दादी माँ एकदम परेशान हो गयीं। मम्मी ने तो रोना ही शुरु कर दिया।
दादी माँ मुझे गोद में उतारकर ज्योतिष के पाँवों में गिर कर लगभग रोते हुए बोलीं- ‘‘महाराज, इससे बचने का कोई तो उपाय होगा। अब आप ही का सहारा है। मेरे बेटे को किसी भी तरह से बचा लीजिए महाराज।’’
‘‘धीरज रखिए माताजी, धीरज रखिए। अब मैं आ गया हूँ न। आपके बेटे को कुछ नहीं होगा। आप निश्चिन्त रहिए। आपको बस एक छोटा-सा शांति पाठ करना होगा। आप तो जितनी जल्दी हो सके आवश्यक सामग्रियों की व्यवस्था कीजिए।
दादी माँ कुछ पूछतीं इससे पहले एक कड़कदार आवाज गूंजी -‘‘रूक जाओे माँ।’’ आवाज पिताजी की थी जो पुलिस विभाग में इंसपेक्टर थे और आज अचानक समय से पहले घर आ गए थे।
पिता जी ने ज्योतिष से पूछा- ‘‘तो आप भविष्यवक्ता हैं ?’’
ज्योतिष बोला- ‘‘जी हाँ।’’
पिता जी ने फिर पूछा- ‘‘अच्छा तो आप मुझे ये बताइए कि अब मैं आपको जूते से मारूँगा कि डंडे से ?’’
ज्योतिष सकपकाया, बोला- ‘‘जी…. जी…. आप मुझे क्यों मारेंगे…… ? मैंने क्या अपराध क्या है ?’’
पिता जी ने उसे दो डंडे लगाने के बाद कहा- ‘‘तुमने इन भोले-भाले लोगों को झूठमूठ की बातों से भयभीत कर ठगने का अपराध किया है। इस जुर्म में तुम्हें जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।’
जेल का नाम सुनते ही ज्योतिष की सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई। वह अपना बोरिया-बिस्तर समेट कर भाग खड़ा हुआ। पिता जी बहुत देर तक मम्मी तथा दादी माँ को समझाते रहे कि ऐसे लोग ठग होते हैं, जो भोले-भाले लोगों को झूठमूठ की बातों से भयभीत कर देते हैं और पूजा-पाठ के नाम पर ठगते हैं। ऐसे लोगों के झाँसे में नहीं पड़ना चाहिए।
पर दादी माँ कहाँ मानने वाली थी। अड़ गईं कि ‘‘तुम तीन दिनों की छुट्टी ले लो और घर में रहो।’’
पिता जी ने समझाया कि ऐसा कुछ नहीं होगा और जो होना है वह घर-बाहर कहीं भी हो सकता है। पर दादी माँ तो दादी माँ थीं-पिताजी की मम्मी। वह भला कहाँ मानने वाली थीं। नहीं मानीं। हारकर पिताजी को तीन दिनो की छुट्टी लेनी पड़ी। लेकिन तीन दिन बीतने पर भी जब कुछ नहीं हुआ तो दादी माँ को अपनी गलती का अहसास हुआ। बोली- ‘‘बेटा, मुझे माफ कर देना। मेरे अंधविश्वास के चलते तुम्हें परेशान होना पड़ा। पर क्या करूँ, माँ हूँ न। लेकिन अब जान गई हूँ कि ये सब बेकार की बातें हैं।‘‘
और सचमुच दादी माँ जब तक जीवित रहीं, उन्हें कभी किसी ज्योतिष से बातें करते नहीं देखा।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
It is that time in one's life,
It is that time in one's life,
पूर्वार्थ
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पर्वत
पर्वत
डॉ० रोहित कौशिक
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
Er. Sanjay Shrivastava
उम्र निकलती है जिसके होने में
उम्र निकलती है जिसके होने में
Anil Mishra Prahari
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
15- दोहे
15- दोहे
Ajay Kumar Vimal
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तुलना से इंकार करना
तुलना से इंकार करना
Dr fauzia Naseem shad
*पल में बारिश हो रही, पल में खिलती धूप (कुंडलिया)*
*पल में बारिश हो रही, पल में खिलती धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
Neeraj Agarwal
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आखों में नमी की कमी नहीं
आखों में नमी की कमी नहीं
goutam shaw
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
Pratibha Pandey
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
Vishal babu (vishu)
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...