Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

अंदाज़े बयाँ

पास होकर भी दूर रहने का , एहसास करा देते हैं |
दिल में बसे रहने का करते हैं नाटक ,बेइज्जत हज़ार करते हैं ||

1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
कहानी-
कहानी- "खरीदी हुई औरत।" प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
प्राण- प्रतिष्ठा
प्राण- प्रतिष्ठा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मनुष्य प्रवृत्ति
मनुष्य प्रवृत्ति
विजय कुमार अग्रवाल
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
नेताम आर सी
राम का राज्याभिषेक
राम का राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सवाल जवाब
सवाल जवाब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
02/05/2024
02/05/2024
Satyaveer vaishnav
"आतिशे-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आप देखिएगा...
आप देखिएगा...
*प्रणय प्रभात*
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरे कृष्ण की माय आपर
मेरे कृष्ण की माय आपर
Neeraj Mishra " नीर "
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
*अखबारों में झूठ और सच, सबको सौ-सौ बार मिला (हिंदी गजल)*
*अखबारों में झूठ और सच, सबको सौ-सौ बार मिला (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"प्रेमी हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌹खूबसूरती महज....
🌹खूबसूरती महज....
Dr .Shweta sood 'Madhu'
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Parveen Thakur
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
मौत ने पूछा जिंदगी से,
मौत ने पूछा जिंदगी से,
Umender kumar
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
Loading...