Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2016 · 2 min read

अंदर का सच

अंदर का सच (लघुकथा)

बहुत ही सुसभ्‍य, संयंमित, व्‍यवहार कुशल इंसान था वो जिसके व्‍यवहार को साथी कर्मचारी बहुत ही सराहा करती थीं। संभवत: कार्यालय में ऐसा कोई भी नहीं था जो उसकी बुराई करता दिखाई देता और न ही कोई आगंतुक ऐसा था जो उसके व्‍यवहार से दुखी होकर जाता। परंतु ये कहानी रोज की रहती सिर्फ सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक। शाम को कार्यालय से निकलते ही अधिकांश लोगों के कदम घर की ओर बढ़ते हैं पर ख्‍ाड़ाखड़ी के पैर बरबस ही चल पड़ते नागपुर के इतवारी रेडलाइट एरिया की ओर, और ऐसा तब होता जब वह अद्धी चढ़ा लेता।

उस दिन भी यही हुआ, कुछ ज्‍यादा ही पी गया था वह, एक वेश्‍या, जो कि वमुश्किल 14साल की थी और खड़ाखड़ी 55साल का। नित नए और कमसिन जिंदा मांस की भूख ही खड़ाखड़ी के दिलोदिमाग में समाई थी, कि माल जितना छोटा हो उतना अच्‍छा, मजा आता है। खैर, सौदा पक्‍का, ख्‍ाड़ाखड़ी नशे में बुरी तरह लड़खड़ा रहा था। जैसे-तैसे कमरे में पोती की उमर की वेश्‍या के साथ पहुंचा।

खड़ाखड़ी का हबसी राक्षस जिंदा मांस को नोंचने में व्‍यस्‍त था तो खड़ाखड़ी पूंछ बैठा – बेटी तेरा नाम क्‍या है। वेश्‍या की आंखों में आसूंओं की धारा बह निकली और मुंह से सिर्फ इतना कि क्‍या इस हालत में भी, मैं तुम्‍हें बेटी दिखाई देती हूं।

नशा काफूर हो चुका था, खड़ाखड़ी बहुत ही बोझिल कदमों से चला जा रहा था, क्‍योंकि ऐसा कभी न हुआ था, उसने निश्‍चय किया साला आज के बाद रंडी के पास, दारू पीकर नहीं आउंगा, अंदर का सच बाहर निकल आता है।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
*****नियति*****
*****नियति*****
Kavita Chouhan
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
नारी क्या है
नारी क्या है
Ram Krishan Rastogi
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
होली
होली
Madhu Shah
बगल में कुर्सी और सामने चाय का प्याला
बगल में कुर्सी और सामने चाय का प्याला
VINOD CHAUHAN
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
कवि रमेशराज
सच कहूं तो
सच कहूं तो
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
महानगर के पेड़ों की व्यथा
महानगर के पेड़ों की व्यथा
Anil Kumar Mishra
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
Shweta Soni
.......
.......
शेखर सिंह
अस्तित्व पर अपने अधिकार
अस्तित्व पर अपने अधिकार
Dr fauzia Naseem shad
*** मैं प्यासा हूँ ***
*** मैं प्यासा हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
Akash Yadav
"मयकश"
Dr. Kishan tandon kranti
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
श्रीकृष्ण शुक्ल
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
2536.पूर्णिका
2536.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
सेवा या भ्रष्टाचार
सेवा या भ्रष्टाचार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
Loading...