Oct 2, 2016 · 2 min read

अंदर का सच

अंदर का सच (लघुकथा)

बहुत ही सुसभ्‍य, संयंमित, व्‍यवहार कुशल इंसान था वो जिसके व्‍यवहार को साथी कर्मचारी बहुत ही सराहा करती थीं। संभवत: कार्यालय में ऐसा कोई भी नहीं था जो उसकी बुराई करता दिखाई देता और न ही कोई आगंतुक ऐसा था जो उसके व्‍यवहार से दुखी होकर जाता। परंतु ये कहानी रोज की रहती सिर्फ सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक। शाम को कार्यालय से निकलते ही अधिकांश लोगों के कदम घर की ओर बढ़ते हैं पर ख्‍ाड़ाखड़ी के पैर बरबस ही चल पड़ते नागपुर के इतवारी रेडलाइट एरिया की ओर, और ऐसा तब होता जब वह अद्धी चढ़ा लेता।

उस दिन भी यही हुआ, कुछ ज्‍यादा ही पी गया था वह, एक वेश्‍या, जो कि वमुश्किल 14साल की थी और खड़ाखड़ी 55साल का। नित नए और कमसिन जिंदा मांस की भूख ही खड़ाखड़ी के दिलोदिमाग में समाई थी, कि माल जितना छोटा हो उतना अच्‍छा, मजा आता है। खैर, सौदा पक्‍का, ख्‍ाड़ाखड़ी नशे में बुरी तरह लड़खड़ा रहा था। जैसे-तैसे कमरे में पोती की उमर की वेश्‍या के साथ पहुंचा।

खड़ाखड़ी का हबसी राक्षस जिंदा मांस को नोंचने में व्‍यस्‍त था तो खड़ाखड़ी पूंछ बैठा – बेटी तेरा नाम क्‍या है। वेश्‍या की आंखों में आसूंओं की धारा बह निकली और मुंह से सिर्फ इतना कि क्‍या इस हालत में भी, मैं तुम्‍हें बेटी दिखाई देती हूं।

नशा काफूर हो चुका था, खड़ाखड़ी बहुत ही बोझिल कदमों से चला जा रहा था, क्‍योंकि ऐसा कभी न हुआ था, उसने निश्‍चय किया साला आज के बाद रंडी के पास, दारू पीकर नहीं आउंगा, अंदर का सच बाहर निकल आता है।

170 Views
You may also like:
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
शायद...
Dr. Alpa H.
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
" राजस्थान दिवस "
The jaswant Lakhara
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
एकाकीपन
Rekha Drolia
फूल
Alok Saxena
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक
Ranjeet Kumar
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...