Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

अंदर का मधुमास

मन मोखा से
खुशी का झोंका आने देना।
अंदर का मधुमास
कभी न जाने देना।

जीवन के गुलशन में
रोज विचरता जा,
पतझड़ की परवाह न कर
बस बढ़ता जा।

रात दिवस साँसों के पथ पर
अन दिन यूं मुस्काना है,
सुख-दुख धूप छांव के मानिंद,
आ करके चले जाना है।

कठिन समय हो तो
हरि का गुण गा लेना।
अंदर का मधुमास
कभी न जाने देना।

सतीश सृजन

Language: Hindi
271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
■ एक ही उपाय ..
■ एक ही उपाय ..
*Author प्रणय प्रभात*
खुशी के पल
खुशी के पल
RAKESH RAKESH
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
Bidyadhar Mantry
वरदान
वरदान
पंकज कुमार कर्ण
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Life is a series of ups and downs. Sometimes you stumble and
Life is a series of ups and downs. Sometimes you stumble and
Manisha Manjari
हटा लो नजरे तुम
हटा लो नजरे तुम
शेखर सिंह
मैं उसे पसन्द करता हूं तो जरुरी नहीं कि वो भी मुझे पसन्द करे
मैं उसे पसन्द करता हूं तो जरुरी नहीं कि वो भी मुझे पसन्द करे
Keshav kishor Kumar
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
Ravi Prakash
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
"कैफियत"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
पूर्वार्थ
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
जीवन के लक्ष्य,
जीवन के लक्ष्य,
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
और तो क्या ?
और तो क्या ?
gurudeenverma198
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Dr. Rajeev Jain
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
Smriti Singh
Loading...