Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

अंत में पैसा केवल

अंत में पैसा केवल
कफ़न खरीदने के काम आता है।

और अहंकार को लकड़ियाँ
जलाकर राख कर देती है।

इंसान की असली कमाई केवल
उसका अच्छा स्वभाव है।

~ आरती सिरसाट

93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
उसके क़दम जहां भी पड़ते हैं,
उसके क़दम जहां भी पड़ते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कुण्डलिया छंद
कुण्डलिया छंद
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"पुकारता है चले आओ"
Dr. Kishan tandon kranti
नया साल
नया साल
umesh mehra
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
ठीक है
ठीक है
Neeraj Agarwal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
मनुष्य प्रवृत्ति
मनुष्य प्रवृत्ति
विजय कुमार अग्रवाल
पाने को गुरु की कृपा
पाने को गुरु की कृपा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
शब्द ढ़ाई अक्षर के होते हैं
शब्द ढ़ाई अक्षर के होते हैं
Sonam Puneet Dubey
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
निगाहें
निगाहें
Sunanda Chaudhary
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
Dr. Narendra Valmiki
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
तुम तो हो जाते हो नाराज
तुम तो हो जाते हो नाराज
gurudeenverma198
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
वंदनीय हैं मात-पिता, बतलाते श्री गणेश जी (भक्ति गीतिका)
वंदनीय हैं मात-पिता, बतलाते श्री गणेश जी (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
2958.*पूर्णिका*
2958.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...