Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

अंतिम साँझ …..

अंतिम साँझ …….

लिख लेने दो
एक अंतिम साँझ
मुझे
साँझ के पन्नों पर
अभिलाषाओं की वेदी पर
साँसों की देहरी पर
व्योम के क्षितिज़ पर
स्मृति के बिम्बों पर
मौन की गुहा में
स्पर्शों की गंध पर
श्वासों के आलिंगन में
अन्तस् के दर्पण पर
बिंदु के अस्तित्व में
लिख लेने दो
मुझे
प्राणों में लीन प्राणों की
अंतिम
साआआआं … झ

सुशील सरना
मौलिक एवं अप्रकाशित

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
कवि दीपक बवेजा
1...
1...
Kumud Srivastava
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
Rajesh Kumar Arjun
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहां गए (कविता)
कहां गए (कविता)
Akshay patel
किसका  हम शुक्रिया करें,
किसका हम शुक्रिया करें,
sushil sarna
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
💐प्रेम कौतुक-324💐
💐प्रेम कौतुक-324💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
life is an echo
life is an echo
पूर्वार्थ
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*Author प्रणय प्रभात*
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
"पशु-पक्षियों की बोली"
Dr. Kishan tandon kranti
!! फूलों की व्यथा !!
!! फूलों की व्यथा !!
Chunnu Lal Gupta
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
*ऐसी हो दिवाली*
*ऐसी हो दिवाली*
Dushyant Kumar
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
चाहत
चाहत
Dr Archana Gupta
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...