Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2016 · 1 min read

अंतर्मन में एक शोर मचा हुआ है

अंतर्मन में एक शोर मचा हुआ है,
स्वार्थ का शिकंजा कसा हुआ है।

दास्ताँ अधूरी रह जाती हैं आज,
वासना में मन ये जकड़ा हुआ है।

देखो रिश्ते नाते सब बौने पड़े हैं,
दौलत का चश्मा चढ़ा हुआ है।

मानवता रही नहीं लोगों में अब,
लालच में हर कोई धंसा हुआ है।

संस्कृति लहुलुहान हो गयी आज,
पाश्चात्य रोम रोम में बसा हुआ है।

कलम चापलूसी करने में लगी है,
ऐसा चाटुकारिता का नशा हुआ है।

देशहित की सोचता नहीं नेता कोई,
सत्ता सुख का चस्का लगा हुआ है।

मूर्खों की जय जयकार होने लगी,
समझदारों का अकाल पड़ा हुआ है।

सुलक्षणा मत लिखा कर इतना अब,
हर कोई अहम का पाठ पढ़ा हुआ है।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

2 Likes · 1 Comment · 510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
DEVESH KUMAR PANDEY
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
"व्यक्ति जब अपने अंदर छिपी हुई शक्तियों के स्रोत को जान लेता
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति  भर्वे भवे।*
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति भर्वे भवे।*
Shashi kala vyas
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
अंगार
अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सब सूना सा हो जाता है
सब सूना सा हो जाता है
Satish Srijan
*सावन-भादो दो नहीं, सिर्फ माह के नाम (कुंडलिया)*
*सावन-भादो दो नहीं, सिर्फ माह के नाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी  सीख रही।
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी सीख रही।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
कुछ मत कहो
कुछ मत कहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
बाल कविता
बाल कविता
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रतिभा के बलि
प्रतिभा के बलि
Shekhar Chandra Mitra
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
2890.*पूर्णिका*
2890.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
Shreedhar
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
■लगाओ नारा■
■लगाओ नारा■
*Author प्रणय प्रभात*
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
खुद को इंसान
खुद को इंसान
Dr fauzia Naseem shad
Loading...