Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2018 · 1 min read

अंतर्मन दिपिका

सुबह का सूरज गया चांद को मनाने
दिन में संभाल लुंगा इस दुनिया को
पर रात में संभाल लेना तुम
देखो दुनिया चल रही है गलत राह पर
संभालना है हमें इसे
क्योंकि यह है हमारी भविष्य राह
अंधेरे में कहीं भटक ना जाए वे
तुम इतना प्रकाश फैलाना,
देखो घटता बढ़ता में रोज़ हूं
पर तब भी पूर्ण कोशिश करता
किरण अपना बढ़ाने की

कहीं भटक ना जाए मुसिफिर बीच राह में
अंधेरे में उजाला करता हूं मैं
पर क्या नहीं लगता है तुम्हें
बाहर से ज्यादा आंतरिक अंधेरा है यहां
कैसे मिटाएं हम उसे??
अपने तेज से प्रज्जवलित करके
प्रतम मिटाएं बाहरी अंधकार को
और जब बुनियाद हिलेगा
छत अपने आप धह जाएगा
आखिर कोशिश तो करें हम
चलो चांद करने अपना काम रे
दिखाने अपना प्रभाव रे

Language: Hindi
212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जीवन
जीवन
Mangilal 713
उम्मीदें  लगाना  छोड़  दो...
उम्मीदें लगाना छोड़ दो...
Aarti sirsat
कभी कभी रास्ते भी उदास होते हैं ....बहुत उदास .....
कभी कभी रास्ते भी उदास होते हैं ....बहुत उदास .....
पूर्वार्थ
मित्रता
मित्रता
Shashi Mahajan
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
मेरी ख़ूबी बस इत्ती सी है कि मैं
मेरी ख़ूबी बस इत्ती सी है कि मैं "ड्रिंकर" न होते हुए भी "थिं
*प्रणय प्रभात*
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
आंसूओं की नहीं
आंसूओं की नहीं
Dr fauzia Naseem shad
"रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त
वक्त
Prachi Verma
इसके सिवा क्या तुमसे कहे
इसके सिवा क्या तुमसे कहे
gurudeenverma198
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
राज्यतिलक तैयारी
राज्यतिलक तैयारी
Neeraj Mishra " नीर "
संगत
संगत
Sandeep Pande
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...