Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2016 · 1 min read

अंगदान

चूसता खून इन्सान इन्सान का
आज वो रूप रखता है शैतान का

डस रहा नाग बनकर तुझे रोज ही
क्यों भरोसा करो फिर से हैवान का

बन गया है जमीं का खुदा आज वो
डर नहीं है उसे अब तो भगवान का

जिन्दगी मुस्कुराती हमेशा रहे
आज भूखा रहूँ मैं तो सम्मान का

मान लेता कहीं बात माँ बाप की
फिर न भागी रहे तू किसी क्षमादान का

चाह दिल की न पूरी कभी हो सके
टूट जाये घरोंदा गर नादान का

एक दिन तू यहाँ से चला जायेगा
हो न इन्तजार तुझको तो फरमान का

फिर से जीवन सभी को दे पाओ कभी
ठान लो आज सब लोग रक्तदान का

मौत पूछे न तुझको कि ले जाऊँ कब
इसलिए प्रण करो आज अंगदान का

70 Likes · 604 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
सालगिरह
सालगिरह
अंजनीत निज्जर
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
औरत
औरत
Rekha Drolia
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
निर्णायक स्थिति में
निर्णायक स्थिति में
*Author प्रणय प्रभात*
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
Khaimsingh Saini
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
"जरा सुनो"
Dr. Kishan tandon kranti
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बगावत का बिगुल
बगावत का बिगुल
Shekhar Chandra Mitra
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
प्रणय 10
प्रणय 10
Ankita Patel
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
अहसास
अहसास
Sandeep Pande
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
वजीर
वजीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
Dr. Narendra Valmiki
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
टूटने का मर्म
टूटने का मर्म
Surinder blackpen
“LOVELY FRIEND”
“LOVELY FRIEND”
DrLakshman Jha Parimal
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तू इश्क, तू खूदा
तू इश्क, तू खूदा
लक्ष्मी सिंह
Loading...