Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

You can’t AFFORD me

You can’t AFFORD me
Because it’s not
YOUR ABILITY
You don’t have idea about
MY WORTH

1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
Sakhawat Jisan
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमारे तुम्हारे दरम्यान फासले बस
हमारे तुम्हारे दरम्यान फासले बस
Khushboo Khatoon
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌷 चंद अश'आर 🌷
🌷 चंद अश'आर 🌷
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मीठा खाय जग मुआ,
मीठा खाय जग मुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फगुनाई मन-वाटिका,
फगुनाई मन-वाटिका,
Rashmi Sanjay
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
पारो
पारो
Acharya Rama Nand Mandal
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
gurudeenverma198
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
Sanjay
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
दाता देना बस हमें , निर्मल मन अभिराम (कुंडलिया)
दाता देना बस हमें , निर्मल मन अभिराम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
आँसू
आँसू
Satish Srijan
आज की तारीख़ में
आज की तारीख़ में
*Author प्रणय प्रभात*
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
तरुण सिंह पवार
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"क्रियात्मकता के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
डॉ प्रवीण ठाकुर
Loading...