Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2018 · 3 min read

××××××

नगर के प्रतिष्ठित सेठ बाबू अरूण लाल जी दूरस्थ रिश्तेदार के यहां जा रहे थे । यात्रा के दौरान एक शहर में जलपान करने की इच्छा से ड्राइवर से कार रोकने को कहा । ड्राइवर ने कार को सड़क के किनारे खंड़ी कर दी । कार जहाँ खड़ी की गई ,उसके चन्द फासले पर कोई मजहबी मजलिस का आयोजन किया जा रहा था । पुलिसकर्मी अपने ड्यूटी पर मुस्तैद थे ।
अरूण लाल जी जलपान करने रेस्टोरेंट में चले गए । इसी दरम्यान गाय की एक नवजात बछिया कार के नीचे आकर बैठ गयी थी । अरूण लाल जी जलपान करके कार में बैठ गए और ड्राइवर से कार को ले चलने के लिए कहा । ड्राइवर ने कार को ज्योंही आगे बढ़ाने की कोशिश की , कार के नीचे से चिल्लाने की आवाज सुनाई पड़ी । ड्राइवर ने कार को बंद करके नीचे देखा तो बछिया चिल्ला रही थी । तुरंत आसपास के लोगों ने आकर कार को उठाया तो बछिया चिल्लाती हुई भाग गई । दो – एक पुलिसकर्मी भी कार के पास पहुंच गए । कार के नीचे से बछिया को भागते हुए देखा तो वे पुलिसकर्मी रोबदार आवाज में बोले – ” गाड़ी को थाने ले चलिए । ”
अरूण लाल जी ने कहा – ” क्यों ले चलूँ ?”
सिपाही ने कहा – ” बछिया को कार के नीचे दबाकर कहते हो क्यों ले चलूँ ?”
अरूण लाल जी ने कहा – ” लेकिन बछिया को कुछ हुआ तो नही ,वह तो भाग गई । ”
सिपाही ने कहा – ” मैं यह सब सुनना नही चाहता । सीधे – सीधे थाने चलो । जो कहना होगा कोतवाल साहब से कहना । ”
बुझे मन से मजबूरी बश अरूण लाल जी को कोतवाली जाना पड़ा । कोतवाल साहब कहीं गश्त पर गये थे । अरूण लाल जी कोतवाली में तैनात अन्य पुलिसकर्मी से मान – मनव्वल करते रहे , कुछ ले – देकर इस मुसीबत से पिंड छुड़ाना चाहते थे । लेकिन वहाँ पर उनकी बात को कोई सुनने को तैयार नही था ।बस एक ही जबाब था – ” कोतवाल साहब को आने दीजिए । ”
एकाएक उन्हें ख्याल आया कि मेरे मित्र कैलाशनाथ की रिश्तेदारी तो यहीं पर है । उन्होंने झट मोबाइल से मित्र के रिश्तेदार सेठ अमर नाथ जी से सम्पर्क साधा और पूरे हालात से अवगत कराया । अमरनाथ जी नगर के प्रतिष्ठित व्यक्ति थे । वे थोड़ी देर में कोतवाली पहुंच गए । उसी समय कोतवाल साहब भी आ धमके ।
कोतवाल साहब ने सेठ अमर नाथ जी को देखते ही बड़े विनम्र और शालीन भाव में कहा – “अरे ! लाला जी आप ! कैसे आना हुआ ? मेरे लायक जो सेवा हो कहिये । ”
सेठ अमर नाथ जी कुछ कहते , इसके पहले ही सिपाही बोल पड़ा – ” श्रीमान जी ! ये साहब अरूण लाल जी की कार से बछिया दब गई है । बड़े ना – नुकुर के बाद इनको यहां पर लाया हूँ । ”
कोतवाल साहब अरूण लाल जी के प्रति कठोर कदम उठाते , इसके पहले ही अमर नाथ जी बोल पड़े – ” कोतवाल साहब ये मेरे रिश्तेदार के घनिष्ठ मित्र हैं । कार के नीचे बछिया बैठी थी जरूर , लेकिन उसे कुछ हुआ नही है । वह तो तुरंत भाग खड़ी हुई । आपके मातहत बे वजह मामले को तूल देकर तिल का ताड़ बना रहे हैं । ”
कोतवाल साहब ने जब सेठ अमर नाथ जी की बात को सुना तो अपने मातहत सिपाही से बोले – ” क्यों जी ! यह बात सच है ?”
” हाँ हुजूर !बात तो यही है ” सिपाही ने कहा ।
कोतवाल साहब ने सिपाही को फटकार लगाई गई और अमर नाथ जी से क्षमा याचना मांगते हुए अरूण लाल जी को जाने के लिए कह दिया ।
अरूण लाल जी जान बची लाखों पाए ,मन ही मन सोचते तुरंत ड्राइवर से बोले – ” जल्दी कार भगाओ ।,
इथर अरूण लाल जी की कार बड़े स्पीड से शहर को छोड़ रही थी । दूसरी तरफ शहर में उतनी ही स्पीड से ” धार्मिक स्थल पर बछिया दब गई ” का अफवाह फैल रहा था । वातावरण में ” जय श्रीराम ” तथा ” अल्लाह – हो – अकबर ” के नारे गूँजने लगे थे ।

Language: Hindi
375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार और भाव-1
विचार और भाव-1
कवि रमेशराज
*तोता (बाल कविता)*
*तोता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
A setback is,
A setback is,
Dhriti Mishra
यूं तन्हाई में भी तन्हा रहना एक कला है,
यूं तन्हाई में भी तन्हा रहना एक कला है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या जलाएगी मुझे यह, राख झरती ठाँव मधुरे !
क्या जलाएगी मुझे यह, राख झरती ठाँव मधुरे !
Ashok deep
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शब्द
शब्द
Paras Nath Jha
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
फितरत दुनिया की...
फितरत दुनिया की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
* याद है *
* याद है *
surenderpal vaidya
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
कवि दीपक बवेजा
वृद्धावस्था
वृद्धावस्था
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हिम बसंत. . . .
हिम बसंत. . . .
sushil sarna
ज़रा-सी बात चुभ जाये,  तो नाते टूट जाते हैं
ज़रा-सी बात चुभ जाये, तो नाते टूट जाते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#गणपति_बप्पा_मोरया
#गणपति_बप्पा_मोरया
*प्रणय प्रभात*
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
सुनाओ मत मुझे वो बात , आँसू घेर लेते हैं ,
सुनाओ मत मुझे वो बात , आँसू घेर लेते हैं ,
Neelofar Khan
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
शेखर सिंह
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...