Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2022 · 1 min read

Writing Challenge- बुद्धिमत्ता (Intelligence)

आज का विषय है बुद्धिमत्ता (Intelligence)

इस विषय पर किसी भी भाषा में एक नयी कविता, कहानी या संस्मरण लिखिए।

अपनी पोस्ट में Daily Writing Challenge टैग अवश्य जोड़ें।

यह कोई प्रतियोगिता नहीं है। आपको लिखने की प्रेरणा देने के लिए हम हर दिन एक नया विषय लेकर आते हैं।

1 Like · 60 Views

Books from Sahityapedia

You may also like:
हम रात भर यूहीं तरसते रहे
हम रात भर यूहीं तरसते रहे
Ram Krishan Rastogi
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
तुममें हममें कुछ तो मुख्तलिफ बातें हैं।
तुममें हममें कुछ तो मुख्तलिफ बातें हैं।
Taj Mohammad
"गर्वित नारी"
Dr Meenu Poonia
अहोई आठे की कथा (कविता)
अहोई आठे की कथा (कविता)
Ravi Prakash
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भूखे पेट न सोए कोई ।
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
* सखी *
* सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वह मौत भी बड़ा सुहाना होगा
वह मौत भी बड़ा सुहाना होगा
Aditya Raj
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
" अधूरा फेसबूक प्रोफाइल "
DrLakshman Jha Parimal
वो पुरानी सी दीवारें
वो पुरानी सी दीवारें
शांतिलाल सोनी
सनातन भारत का अभिप्राय
सनातन भारत का अभिप्राय
Ashutosh Singh
Writing Challenge- जिम्मेदारी (Responsibility)
Writing Challenge- जिम्मेदारी (Responsibility)
Sahityapedia
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
गुरुवर
गुरुवर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एहसास-ए-शु'ऊर
एहसास-ए-शु'ऊर
Shyam Sundar Subramanian
“पल भर के दीदार का कोई अर्थ नहीं।
“पल भर के दीदार का कोई अर्थ नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
कवि दीपक बवेजा
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
धन
धन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अमृत महोत्सव
अमृत महोत्सव
वीर कुमार जैन 'अकेला'
कहाँ गया रोजगार...?
कहाँ गया रोजगार...?
मनोज कर्ण
नियत
नियत
Shutisha Rajput
💐प्रेम कौतुक-325💐
💐प्रेम कौतुक-325💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मछली के बाजार
मछली के बाजार
Shekhar Chandra Mitra
Tum bina bole hi sab kah gye ,
Tum bina bole hi sab kah gye ,
Sakshi Tripathi
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come...
Manisha Manjari
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
Loading...