Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

With Grit in your mind

With Grit in your mind
and Passion in your heart,
there’s never a milestone,
you couldn’t savour like a tart.

224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dhriti Mishra
View all
You may also like:
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
मैं तुझसे मोहब्बत करने लगा हूं
मैं तुझसे मोहब्बत करने लगा हूं
Sunil Suman
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम तुम और वक़्त जब तीनों क़िस्मत से मिल गए
हम तुम और वक़्त जब तीनों क़िस्मत से मिल गए
shabina. Naaz
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
सार्थकता
सार्थकता
Neerja Sharma
देश भक्ति का ढोंग
देश भक्ति का ढोंग
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
कवि दीपक बवेजा
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
Ranjeet kumar patre
उम्र आते ही ....
उम्र आते ही ....
sushil sarna
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुश्किलों में उम्मीद यूँ मुस्कराती है
मुश्किलों में उम्मीद यूँ मुस्कराती है
VINOD CHAUHAN
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
3150.*पूर्णिका*
3150.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
हिन्दी ही दोस्तों
हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
इश्क चख लिया था गलती से
इश्क चख लिया था गलती से
हिमांशु Kulshrestha
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
" देखा है "
Dr. Kishan tandon kranti
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
Loading...