Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2023 · 1 min read

Whenever things got rough, instinct led me to head home,

Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Without you, life plays tough, and I have no choice but to roam.
Home is now just an illusion, where once I felt safe,
I don’t understand the cruelty of time, how helplessly I now stray like a waif.
The realization hits hard that the idea of home no longer exists for me,
I am caught off-guard, lying under the naked sky on a rough floor, you see.
My home was not a construction of bricks, but rather you,
Which has now turned to ashes, yet still embraces me in moments that remain true.
Whenever the storms hit the ground,
You were my shelter, always there, always around.
Now without you, I’m just lonely and lost,
I’ve tried a lot, but the distance between Heaven and Earth remains uncrossed.

3 Likes · 2 Comments · 210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट
बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट
Ravi Prakash
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
क्यों दोष देते हो
क्यों दोष देते हो
Suryakant Dwivedi
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
तन्हाई को तोड़ कर,
तन्हाई को तोड़ कर,
sushil sarna
*A date with my crush*
*A date with my crush*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अगर प्यार  की राह  पर हम चलेंगे
अगर प्यार की राह पर हम चलेंगे
Dr Archana Gupta
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
ruby kumari
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
Madhuyanka Raj
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
कवि दीपक बवेजा
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
2518.पूर्णिका
2518.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दादी माँ - कहानी
दादी माँ - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कठोर व कोमल
कठोर व कोमल
surenderpal vaidya
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
एक पूरी सभ्यता बनाई है
एक पूरी सभ्यता बनाई है
Kunal Prashant
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
'अशांत' शेखर
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
Neelam Sharma
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
Arvind trivedi
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
Ramal musaddas saalim
Ramal musaddas saalim
sushil yadav
पिता
पिता
Manu Vashistha
हर किसी का एक मुकाम होता है,
हर किसी का एक मुकाम होता है,
Buddha Prakash
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
Loading...