Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

What is FAMILY?

What is FAMILY?
FAMILY is a beautiful and unique bond that goes beyond biology. It’s a group of people who love and care for each other unconditionally. FAMILY can include your parents, siblings, grandparents, aunts, uncles, and cousins, but it’s not limited to just blood relations. FAMILY can also be the friends who have become like family, the people who support you and stand by your side through thick and thin. It’s about creating a sense of belonging, trust, and shared experiences. Family is where you find love, support, and a place to call home.

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
हया
हया
sushil sarna
-शुभ स्वास्तिक
-शुभ स्वास्तिक
Seema gupta,Alwar
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
गुप्तरत्न
प्रेम अंधा होता है मां बाप नहीं
प्रेम अंधा होता है मां बाप नहीं
Manoj Mahato
You call out
You call out
Bidyadhar Mantry
राम है आये!
राम है आये!
Bodhisatva kastooriya
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
पूर्वार्थ
राजकुमारी कार्विका
राजकुमारी कार्विका
Anil chobisa
Unrequited
Unrequited
Vedha Singh
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरी सोच~
मेरी सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
वैनिटी बैग
वैनिटी बैग
Awadhesh Singh
।। निरर्थक शिकायतें ।।
।। निरर्थक शिकायतें ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*चार दिवस मेले में घूमे, फिर वापस घर जाना (गीत)*
*चार दिवस मेले में घूमे, फिर वापस घर जाना (गीत)*
Ravi Prakash
ओह भिया क्या खाओगे ?
ओह भिया क्या खाओगे ?
Dr. Mahesh Kumawat
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
2394.पूर्णिका
2394.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
नहीं-नहीं प्रिये
नहीं-नहीं प्रिये
Pratibha Pandey
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
■ यादगार लम्हे
■ यादगार लम्हे
*प्रणय प्रभात*
"नेशनल कैरेक्टर"
Dr. Kishan tandon kranti
राजनीति और वोट
राजनीति और वोट
Kumud Srivastava
Loading...