Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

We all have our own unique paths,

We all have our own unique paths,
progressing at our own paces.
We’re offered with different opportunities
and even challenges to overcome.

Therefore, our lives aren’t defined less or more
by the amount of successes and failures of others.

‘𝗪𝗲’𝗿𝗲 𝗻𝗼𝘁 𝗰𝗿𝗶𝗽𝗽𝗹𝗲𝗱 𝗯𝘆 𝗼𝘁𝗵𝗲𝗿 𝗽𝗲𝗼𝗽𝗹𝗲’𝘀 𝘄𝗶𝗻𝗻𝗶𝗻𝗴 𝗹𝗶𝘃𝗲𝘀
, 𝘄𝗲’𝗿𝗲 𝗮𝗹𝗹 𝗷𝘂𝘀𝘁 𝘄𝗮𝗹𝗸𝗶𝗻𝗴 𝗶𝗻 𝗱𝗶𝗳𝗳𝗲𝗿𝗲𝗻𝘁 𝘁𝗶𝗺𝗲𝗹𝗶𝗻𝗲𝘀.”

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
Shweta Chanda
अकेला बेटा........
अकेला बेटा........
पूर्वार्थ
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
आशा
आशा
नवीन जोशी 'नवल'
✍️♥️✍️
✍️♥️✍️
Vandna thakur
*सेब का बंटवारा*
*सेब का बंटवारा*
Dushyant Kumar
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*जाऍं यात्रा में कभी, रखें न्यूनतम पास (कुंडलिया)*
*जाऍं यात्रा में कभी, रखें न्यूनतम पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"कमाल"
Dr. Kishan tandon kranti
#परिहास
#परिहास
*प्रणय प्रभात*
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
शेखर सिंह
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
Dr MusafiR BaithA
बस नेक इंसान का नाम
बस नेक इंसान का नाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
Loading...