Jun 22, 2021 · 1 min read

Virtuous deeds

Before reaching the end of life, we have to pay attention that the dead body do not have pockets, if the property has to be taken along with it, then it has to be converted into virtuous deeds, these virtuous deeds go with us even after death. Put your wealth in good deeds and take it with you…

1 Like · 1 Comment · 228 Views
You may also like:
पिता
Rajiv Vishal
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H.
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H.
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H.
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H.
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
मैं
Saraswati Bajpai
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
माँ
आकाश महेशपुरी
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H.
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
Loading...