Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

Thought

Thought

God has empower you to delegate your power amongst needy people, not to hurt incapable. Your power sometime divert to ego. This make you unfortunate. So be kind and holy, when you possess such power.

Anil Kumar Gupta Anjum

1 Like · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
*राजा राम सिंह चालीसा*
*राजा राम सिंह चालीसा*
Ravi Prakash
"यथार्थ प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
चाय
चाय
Rajeev Dutta
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
Anil chobisa
2801. *पूर्णिका*
2801. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
🍂तेरी याद आए🍂
🍂तेरी याद आए🍂
Dr Manju Saini
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
अरदास मेरी वो
अरदास मेरी वो
Mamta Rani
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
"कौन अपने कौन पराये"
Yogendra Chaturwedi
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
*
*"रक्षाबन्धन"* *"काँच की चूड़ियाँ"*
Radhakishan R. Mundhra
कठिन परीक्षा
कठिन परीक्षा
surenderpal vaidya
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
बीच-बीच में
बीच-बीच में
*Author प्रणय प्रभात*
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
Sanjay ' शून्य'
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गज़ल (इंसानियत)
गज़ल (इंसानियत)
umesh mehra
Loading...