Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2021 · 1 min read

The Deep Ocean

Inside the deep ocean.
A new world is situated.
Aquatic lives and oceanic plants.
Ice hills and stones inside.
All different creatures servive.
Here is the world of fishes.
Big small huge and long sizes.
Beautiful colourful creatures makes the ocean surprise.
The ocean spread all over the earth.
Having minerals hidden inside it.
Herbs and pearls you can find .
Ships moves on it.
The ocean have peace sometimes waves reach.
Tides rises up and down on its beach.
The God is the creator of beautiful this features.

#Written by..Buddha Prakash
.,…Maudaha,Hamirpur(U.P.)

Language: English
Tag: Poem
5 Likes · 2 Comments · 664 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
खो दोगे
खो दोगे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
किस मोड़ पे मिलेंगे बिछड़कर हम दोनों हमसफ़र,
किस मोड़ पे मिलेंगे बिछड़कर हम दोनों हमसफ़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
■ आप ही बताइए...
■ आप ही बताइए...
*प्रणय प्रभात*
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Santosh kumar Miri
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2591.पूर्णिका
2591.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
18--- 🌸दवाब 🌸
18--- 🌸दवाब 🌸
Mahima shukla
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
श्रीराम किसको चाहिए..?
श्रीराम किसको चाहिए..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
Manoj Mahato
*नुक्कड़ की चाय*
*नुक्कड़ की चाय*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
gurudeenverma198
Loading...