Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

SuNo…

SuNo…
जहाँ क़द्र न हो वहाँ खुद को
न बिखेरिये,

बेक़द्रों को तो हीरा भी कांच ही
नजर आता है..!!

Vishal babu

287 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
नेताम आर सी
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मकानों में रख लिया
मकानों में रख लिया
abhishek rajak
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नया साल
नया साल
Dr fauzia Naseem shad
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
उत्कर्ष
उत्कर्ष
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
आज का महाभारत 1
आज का महाभारत 1
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
पूर्वार्थ
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
इन आंखों में तुम्हारी तस्वीर इस क़दर कैद है,
इन आंखों में तुम्हारी तस्वीर इस क़दर कैद है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
जो भी मिलता है उससे हम
जो भी मिलता है उससे हम
Shweta Soni
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
दवाखाना  से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
दवाखाना से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पैसा होय न जेब में,
पैसा होय न जेब में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कौआ"
Dr. Kishan tandon kranti
रंगमंच
रंगमंच
Ritu Asooja
What can you do
What can you do
VINOD CHAUHAN
टाँग इंग्लिश की टूटी (कुंडलिया)
टाँग इंग्लिश की टूटी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
घर
घर
Shashi Mahajan
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
Loading...