Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

Shayri

तुम जब अपना देह त्याग दो
बन जाना तुम आसमां का चांद

मैं तुम्हें वैसे ही निहारूंगा
जैसे अब तक निहारता आया हूं !!

Language: Hindi
1 Like · 322 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
दुनियाँ की भीड़ में।
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
राम के नाम की ताकत
राम के नाम की ताकत
Meera Thakur
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
कोई बात नहीं देर से आए,
कोई बात नहीं देर से आए,
Buddha Prakash
■ दोनों पहलू जीवन के।
■ दोनों पहलू जीवन के।
*प्रणय प्रभात*
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
थोड़ा  ठहर   ऐ  ज़िन्दगी
थोड़ा ठहर ऐ ज़िन्दगी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल की बात
दिल की बात
Ranjeet kumar patre
करूणा का अंत
करूणा का अंत
Sonam Puneet Dubey
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
शेखर सिंह
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
Rj Anand Prajapati
" फौजी "
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
3281.*पूर्णिका*
3281.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
Subhash Singhai
कितना कुछ सहती है
कितना कुछ सहती है
Shweta Soni
नारी का सम्मान 🙏
नारी का सम्मान 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
तन्हाई
तन्हाई
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नए साल का सपना
नए साल का सपना
Lovi Mishra
Loading...