Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 14, 2021 · 1 min read

** Service man **

If you are a service man,
You are doing your job,
You are not a slave,
Then never feel bad,
Do your duty,
It’s your beauty,
You are not a slave,
Serving your best,
You have some rights,
Living your life,
Being a human,
You have your choice,
Be a ‘service man’,
Feel proud for that.

Written by–
# Buddha Prakash,
Maudaha Hamirpur.

6 Likes · 414 Views
You may also like:
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...