Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2023 · 1 min read

Quote

Quote
Create chances into opportunities, they will lead you to succeed in every sphere of life.

Language: English
1 Like · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-465💐
💐प्रेम कौतुक-465💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
Desires are not made to be forgotten,
Desires are not made to be forgotten,
Sakshi Tripathi
"मोमबत्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
2678.*पूर्णिका*
2678.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
धर्म की खिचड़ी
धर्म की खिचड़ी
विनोद सिल्ला
Consistency does not guarantee you you will be successful
Consistency does not guarantee you you will be successful
पूर्वार्थ
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
*Author प्रणय प्रभात*
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
A Departed Soul Can Never Come Again
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
*चंदा (बाल कविता)*
*चंदा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बदलता साल
बदलता साल
डॉ. शिव लहरी
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
वक़्त को वक़्त
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
बच्चों के पिता
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
Manoj Mahato
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
कवि दीपक बवेजा
गुरु से बडा ना कोय🙏
गुरु से बडा ना कोय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...