Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-49💐

Oh Dear!
This way will never end.
I shall follow this lonely.
It is inspirational.
Why?
Because,True love is in the form of God.
I am not meek.
But,I am in the way.
That,you can’t walk.
You have to visit it lonely.
It has settled for you.
Really,you listen the music.
Slowly-slowly.
If don’t listen.
Your journey has not started.
Look it.
With true love.
Otherwise.
Time will forget you.
©® Abhishek Parashar ‘”anand”

©® Abhishek

Language: English
136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
जन-मन की भाषा हिन्दी
जन-मन की भाषा हिन्दी
Seema Garg
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
पिता
पिता
Dr.Priya Soni Khare
"नग्नता, सुंदरता नहीं कुरूपता है ll
Rituraj shivem verma
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
The_dk_poetry
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
शिव प्रताप लोधी
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
पैगाम
पैगाम
Shashi kala vyas
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
Taj Mohammad
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
Loading...