Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2023 · 1 min read

Not longing for prince who will give you taj after your death

Not longing for prince who will give you taj after your death
But for one who will cross the oceans and shackled hurdles to search you as his life

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
Ms.Ankit Halke jha
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
Manisha Manjari
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
■सत्ता के लिए■
■सत्ता के लिए■
*Author प्रणय प्रभात*
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
Taj Mohammad
वाल्मीकि रामायण, किष्किन्धा काण्ड, द्वितीय सर्ग में राम द्वा
वाल्मीकि रामायण, किष्किन्धा काण्ड, द्वितीय सर्ग में राम द्वा
Rohit Kumar
भरोसा
भरोसा
Paras Nath Jha
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
"रहस्यमयी"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
सत्य कुमार प्रेमी
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
प्रथम गुरु
प्रथम गुरु
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
Radhakishan R. Mundhra
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...