Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

Mujhe laga tha irade majbut hai mere ,

Mujhe laga tha irade majbut hai mere ,
Tum meri ye nadani bhi dur kar gye,
Dil nhi todoge yhi kaha tha mujhse
Tum mera wajud bhi chakna chur kar gye. 😍 by sakshi

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
श्याम सिंह बिष्ट
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
'अशांत' शेखर
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मम्मी की डांट फटकार
मम्मी की डांट फटकार
Ms.Ankit Halke jha
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
जीवन साथी ओ मेरे यार
जीवन साथी ओ मेरे यार
gurudeenverma198
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यहाँ कुशलता रेंगती, वहाँ बताएँ मित्र (कुंडलिया)
यहाँ कुशलता रेंगती, वहाँ बताएँ मित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
Vijay kannauje
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
अंधेरों रात और चांद का दीदार
अंधेरों रात और चांद का दीदार
Charu Mitra
ताप
ताप
नन्दलाल सुथार "राही"
आरुणि की गुरुभक्ति
आरुणि की गुरुभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2274.
2274.
Dr.Khedu Bharti
वचन दिवस
वचन दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
कबीर का पैगाम
कबीर का पैगाम
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-313💐
💐प्रेम कौतुक-313💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गौरवपूर्ण पापबोध
गौरवपूर्ण पापबोध
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
Bodhisatva kastooriya
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट  हो गया है
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट हो गया है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ कन्फेशन
■ कन्फेशन
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...