Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

Mai apni wasiyat tere nam kar baithi

Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Bina kimat ke khud ko ajad kar baithi.
Log kahte gaye ye maidane jung me
Bikhar jayegi tu
Fir bhi mai ishk ki fitur me khud ko badnam kar baithi

Language: English
1 Like · 217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
Dr. Sunita Singh
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
DrLakshman Jha Parimal
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
हम स्वान नहीं इंसान हैं!
हम स्वान नहीं इंसान हैं!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
Buddha Prakash
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
नैनों की भाषा
नैनों की भाषा
Surya Barman
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
कवि दीपक बवेजा
🚩आगे बढ़,मतदान करें।
🚩आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
क्षमा
क्षमा
Shyam Sundar Subramanian
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
घातक शत्रु
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी बेटी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
अधूरी सी प्रेम कहानी
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema 'Tu hai na'
*फिल्म समीक्षक: रवि प्रकाश*
*फिल्म समीक्षक: रवि प्रकाश*
Ravi Prakash
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
रुतबा
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिस पल में तुम ना हो।
जिस पल में तुम ना हो।
Taj Mohammad
थप्पड़ की गूंज
थप्पड़ की गूंज
Shekhar Chandra Mitra
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
जीवन जीत हैं।
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
Loading...