Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

Mai apni wasiyat tere nam kar baithi

Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Bina kimat ke khud ko ajad kar baithi.
Log kahte gaye ye maidane jung me
Bikhar jayegi tu
Fir bhi mai ishk ki fitur me khud ko badnam kar baithi

Language: English
1 Like · 392 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
*मेरा आसमां*
*मेरा आसमां*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*लव यू ज़िंदगी*
*लव यू ज़िंदगी*
sudhir kumar
निर्मल निर्मला
निर्मल निर्मला
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
VINOD CHAUHAN
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
Madhuyanka Raj
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दीदार
दीदार
Dipak Kumar "Girja"
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
पूर्वार्थ
पुस्तक समीक्षा
पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
हम तो हैं प्रदेश में, क्या खबर हमको देश की
हम तो हैं प्रदेश में, क्या खबर हमको देश की
gurudeenverma198
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
जी रहे है तिरे खयालों में
जी रहे है तिरे खयालों में
Rashmi Ranjan
तलबगार दोस्ती का (कविता)
तलबगार दोस्ती का (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कृषक
कृषक
Shaily
* मन कही *
* मन कही *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
Gouri tiwari
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...