Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2023 · 1 min read

Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.

I didn’t know how long you had been breathing deep in my heart,
So distant, a mystery to me, my vital piece that couldn’t be impart.
I never yearned to unlock the doors, sealed tight,
Yet you, like the sun’s rays, emerged after each dark night.
Your smile jeopardized my mature thoughts like hell,
Awaking my inner child, as if you had cast some spell.
The sleep felt so warm when I lay in your arms,
So confident in the moment and feeling secure from all harm.
The rain danced on the green leaves and made a picturesque view,
My soul then confirmed that I was destined to be with you.
The specialty of good times is that they always remain fresh in your eye,
When we wept together, it made me laugh, and the laughing moments made me cry.
Loneliness, at times, haunted me, and I pondered why,
Our time together was brief, a whispered sigh.
Living life now feels like an unjust crime,
Sentenced to a world without you for all time.

95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदगी की ज़रूरत में
ज़िंदगी की ज़रूरत में
Dr fauzia Naseem shad
साँप का जहर
साँप का जहर
मनोज कर्ण
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
“Mistake”
“Mistake”
पूर्वार्थ
दिल
दिल
Er. Sanjay Shrivastava
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
"यात्रा संस्मरण"
Dr. Kishan tandon kranti
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2443.पूर्णिका
2443.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रंग भरी एकादशी
रंग भरी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*फल (बाल कविता)*
*फल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
कुछ समय पहले तक
कुछ समय पहले तक
*Author प्रणय प्रभात*
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
Rj Anand Prajapati
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
काश कही ऐसा होता
काश कही ऐसा होता
Swami Ganganiya
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐अज्ञात के प्रति-61💐
💐अज्ञात के प्रति-61💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...